Kya ramzan me humbistari kar sakte hain?

ashre ki dua
5/5 - (2 votes)

Kya ramzan me humbistari kar sakte hain? ये सवाल भी काफी लोगों के मन मे आता कि आखिर kya ramzan me mubashrat jaiz hai? ये दोनों ही सवाल एक है और इनका जवाब भी एक है. तो आज हम इसी टॉपिक पर बात करेंगे. 

उससे पहले ये जान लें कि mubashrat और humbistari दोनों एक ही चीज है. तो चलिए शुरू करते हैं.

Kya ramzan me humbistari kar sakte hain? 

रमजान मे हमबिस्तरी करना कोई गुनाह नहीं है, ये पूरी तरह से हलाल है जो कि लोगों को लगता है कि ये गुनाह है, जी नहीं आप रमज़ान मे हमबिस्तरी बेशक कर सकते हैं, इसकी कोई रोक-रुकावट नहीं है; आपको बता दें कि इसकी पूरी आजादी देता है कुरान और हदीस.

हदीस और कुरान मे आया है कि आप रमज़ान मे हमबिस्तरी कर सकते हैं. लेकिन इसकी एक शर्त है, आइए उसे भी जाने. 

Ramzan me humbistari karne ke shart 

Ramzan me humbistari karne ke shart कुछ इस तरह है जिसे आपको अपनाना है. 

  • जिस तरह रोज़ा खिलने के बाद से फजर की सेहरी तक खाना-पीना जायज है उसी तरह हमबिस्तरी करना भी जायज है, इसका कोई गुनाह नहीं ब्लकि कुरान मे ये आया है (आगे जानेंगे)
  • लेकिन फजर की सेहरी करने से पहले घुसल कर लें ताकि पाक हो जाएँ. 
  • इस्लाम मे गर्भनिरोधक या कंडोम का इस्तेमाल करने की मनाही है. 
  • रोज़े की हालत मे हमबिस्तरी करना गुनाह है, इससे और रोज़ा भी मकरूह हो जाता है.
  • रात मे हमबिस्तरी के बाद सेहरी के लिए घूसल जरूरी नहीं, ऐसे मे सेहरी कबूल है लेकिन फजर की नमाज के लिए छुसल जरूरी है. 

तो दोस्तों बस यही है Ramzan me humbistari karne ki shart, अगर आप इनपर चलते हैं और हमबिस्तरी करते हैं तो आपको कोई गुनाह नहीं मिलेगा. अब आइए देख लेते हैं कि आखिर quran me ramzan me humbistari karne ka bayan kya hai? और कैसे इसकी इजाजत है.

Ashre ki dua

Ramzan Ki Fazilat

Quran me ramzan me humbistari karne ka bayan kya hai?

कुरान के दूसरे पारे के सूरह बकरा आयत 187 मे अल्लाह ने फरमाया…. 

“रोज़ों की रातों में अपनी औरतों के पास जाना तुम्हारे लिए हलाल हुआ, वो तुम्हारे लिबास हैं और तुम उनके” 

सूरह बकरा की इस आयात से ये साबित हो गया कि इंसान रमजान मे रोज़ा खोलने के बाद से लेकर अगले दिन की सेहरी करने तक जिस तरह कुछ भी खा-पी सकता है उसी तरह हमबिस्तरी भी कर सकता है अपनी बीवी के साथ…. 

Ramzan me humbistari karne ki hadees

एक सहाबा थे जो रमज़ान की रातों मे जौज़ा के करीब चले गए, अपनी बीवी की पिंडलियों को खुला देखकर जब वो पानी भरने गई थीं. वो सहाबा अपनी बीवी की इश्क मे लड़खड़ा गए और हमबिस्तरी कर बैठे. 

वो प्यारे नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के पास आए और पूरा किस्सा बताया कि या रसूल अल्लाह मुझसे गलती हो गई, तब प्यारे नबी मुस्करा दिए…रसूल अल्लाह ने बोला 60 रोज़े लगातार रखो. उस सहाबा ने बोला नहीं रख सकता. 

तब रसूल अल्लाह ने फरमाया 60 गरीबों को खाना खिलाओ दो वक्त का, तब फिर सहाबा ने गरमाया इसकी भी ताकत नहीं है, मेरे पास इतने पैसे नहीं है. ऐसे मे दूसरे सहाबा आए कुछ सदके की चीज लेकर. तब रसूल अल्लाह ने फरमाया कि असल हुक्म तो यही है लेकिन अब तुम इसके हैसियत के नहीं तो ये लो (जो दूसरे सहाबा सदका के लिए लाए थे) और गरीबों मे बांट दो. 

तब उस सहाबा ने बोला मुझसे ज्यादा गरीब पूरे मदीने मे कोई नहीं है, तब रसूल अल्लाह मुस्कुराए और कहे “लो ये ले जाओ और खुद खाओ और अपने बच्चों को खिलाओ, इससे जो तुम गुनाह कर बैठे हो उससे निजात मिल जाएगी” 

तो दोस्तों यही थी kya ramzan me humbistari kar sakte hain या kya ramzan me mubashrat jaiz hai? की पूरी हदीस… 

आपको बता दूँ कि जैसा मैंने आपको पहले बताया था कि रमज़ान की रातों मे हमबिस्तरी कर सकते हैं और कुरान मे भी इसकी इजाजत है जो मैंने आपको उपर सूरह बकरा की आयत 187 बताई; वो आयत इसी किस्से के बाद नाज़िल हुई थी, इस किस्से से पहले रमज़ान की रातों मे हमबिस्तरी करना मना था. लेकिन फिर अल्लाह ने इसे हटा दिया और रमज़ान की रातों मे हमबिस्तरी करने की इजाजत दे दी. 

की तुम रोज़ा खोलने से लेकर अगले दिन की सेहरी करने तक हमबिस्तरी कर सकते हो लिहाजा तुम्हें अपनी बीवी या शौहर के पास जाना चाहिए, तुम उनके लिबास हो और वो तुम्हारे.

आज अपने क्या सीखा

तो दोस्तों आज की इस post मे हमने “kya ramzan me humbistari kar sakte hain ya nahi” पर बात की और आपको इसकी पूरी तालीम देने की कोशिश की आसान भाषा मे वो भी हदीस और कुरान की आयातों की मदद से. और नीचे लिखी सभी चीज़ें को गौर से बताया. 

  • Kya ramzan me mubashrat kar sakte hain? 
  • Ramzan me humbistari karne ka tarika? 
  • Kya ramzan me humbistari jaiz hai?
  • Ramzan me humbistari ka bayan quran ki aayat. 
  • Ramzan me humbistari karna kaisa hai? 
  • Ramzan me humbistari ke मसाइल? 
  • Ramzan me humbistari ki hadis.

उम्मीद करते हैं कि आपको हमारी आज की इस्लामिक जानकारी से भरी ये पोस्ट post पसंद आई होगी और कुछ नया सीखने को मिला होगा, अगर हाँ, तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर SHARE करें ताकि उन्हें भी सही मालूमात हो जाए. 

और हमारे इस WEBSITE को BOOKMARK कर ले ताकि आप सभी को इस्लाम से related ऐसी ही POST रोज़ाना मिलती रहे.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.